Home » देश » एक नए भारत का निर्माण करने में कमी नहीं रखेंगे: मोदी

एक नए भारत का निर्माण करने में कमी नहीं रखेंगे: मोदी

अहमदाबाद। नर्मदा महोत्सव के समापन समारोह के लिए दभोई पहुंचे पीएम मोदी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं यहां बहुत बार आया, कभी बस में आता था कभी स्कूटर पर आता था। मेरी बहुत यादें यहां से जुड़ी हैं। लेकिन ऐसा विराट दृश्य कभी नहीं देखा था। मोदी ने कहा कि मेरे और कईयों के जन्म से पहले सरदार वल्लभ भाई पटेल ने इस बांध का सपना देखा था। अगर वह कुछ और साल जीते तो यह सरदार सरोवर बांध बन चुका होता। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने गुजरात, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र के जीवन को एक नर्मदा नदी कैसे बदल सकती है यह सरदार वल्लभ भाई पटेल ने सोचा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश के महापुरुषों में सरदार पटेल और बाबा साहब अंबेडकर कुछ समय और जिंदा रहते तो सरदार सरोवर डैम बहुत पहले बन गया होता। लेकिन दुर्भाग्य से हमने उन्हें बहुत पहले खो दिया।मोदी ने कहा कि आज विश्वकर्मा जयंती है, भारत में सदियों से जो हाथ से काम करते हैं, पसीना बहाते हैं, श्रम करते हैं, निर्माण का कार्य करते हैं। टेक्निशियन, इंजीनियर, मिस्त्री हों या जो भी स्थापत्य के काम से जुड़ा है, उनको भारत में विश्वकर्मा के नाम से जाना जाता है।

उन्होंने कहा कि यहां मुझे जन्मदिन की बहुत बधाइयां दी जा रही हैं, जिन-जिन ने शुभकामनाएं दी हैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। आपकी भावनाओं के आधार पर खुद को निखारता रहूंगा।मोदी ने कहा कि आपके सपने साकार हों इसके लिए सवा सौ करोड़ देशवासियों की शक्ति जुटाकर एक नए भारत को पाकर रहना है। एक दुबले-पतले गांधी साधना करते-करते आजादी के लिए देश को जोड़ सकते हैं तो मां नर्मदा के आशीर्वाद से एक नए भारत का निर्माण बनाने में कोई कमी नहीं रखेंगे।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि सरदार पटेल ने बहुत पहले सरदार सरोवर बांध का सपना देखा था। बाबा साहब अंबेडकर और सरदार पटेल अगर कुछ समय और जीवित रहते तो देश कामयाबी की नई ऊंचाइयों पर होता। आज सरदार सरोवर बांध सवा सौ करोड़ देशवासियों को समर्पित हो रहा। देश की नई ताकत का ये एक नया प्रतीक बनेगा।उन्होंने कहा कि आपके सपनों के लिए जिऊंगा। योजनाएं बनना और पूरी होना स्वाभाविक होता है, लेकिन हिंदुस्तान में जितनी तकलीफें मां नर्मदा को झेलनी पड़ी। इतनी बड़ी योजना बिना फंड के नहीं हो सकती थी। हमने ठान ली थी कि वर्ल्ड बैंक ऑर नो वर्ल्ड बैंक हम भारत के पसीने से सरदार सरोवर बांध बनाकर रहेंगे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत-पाकिस्तान की सीमा पर खड़े बीएसएफ के जवानों तक मैंने नर्मदा का पानी पहुंचाने की बात ठान ली थी। मैनें ठान लिया था कि इसे राजनीति का शिकार नहीं बनने देंगे। कितनी मुसीबतें हुई हैं और किसने किसने तकलीफ दी है उसका कच्चा चिट्ठा है, लेकिन मुझे वहां तक जाना नहीं है। उन्होंने कहा कि ये गुजरात के ही नहीं महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेश के किसानों के भी भाग्य को बदलने वाली परियोजना है।

About namste

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*