Home » विदेश » टर्नबुल का भारत के प्रति प्रेम नहीं एक दिखावा था

टर्नबुल का भारत के प्रति प्रेम नहीं एक दिखावा था

कैनबेरा। आॅस्ट्रेलिया ने बढ़ती बेरोजगारी से निपटने के लिये 95,000 से अधिक अस्थायी विदेशी कर्मचारियों द्वारा उपयोग किये जा रहे वीजा कार्यक्रम को समाप्त कर दिया है। इन कर्मचारियों में ज्यादातर भारतीय हैं इस कार्यक्रम को 457 वीजा के नाम से जाना जाता है।457 वीजा के तहत कंपनियों को उन क्षेत्रों में चार साल तक विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करने की अनुमति थी जहां कुशल आस्ट्रेलियाई कामगारो की कमी है। प्रधानमंत्री मैलकॉम टर्नबुल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया एक आव्रजन देश हैं लेकिन…आस्ट्रेलियाई कामगारों को अपने देश में रोजगार में प्राथमिकता मिलनी चाहिए इसीलिए ऑस्ट्रेलिया सरकार 457 वीजा समाप्त कर रही है।बताते चलें कि इस वीजा के जरिये अस्थायी तौर पर विदेशी कर्मचारी ऑस्ट्रेलिया आते हैं यह वीजा रखने वालों में ज्यादातर भारत के हैं उसके बाद ब्रिटेन और चीन का स्थान है। ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री के मुताबिक 457 वीजा को रोजगार का पासपोर्ट होने की अब अनुमति नहीं दी जाएगी और ये रोजगार आस्ट्रेलियाई के लिये रखे जाएंगे।एबीसी की रिपोर्ट के अनुसार 30 सितंबर की स्थिति के अनुसर आस्ट्रेलिया में 95,757 कर्मचारी 457 वीजा कार्यक्रम के तहत काम कर रहे थे. अब इस कार्यक्रम की जगह दूसरा वीजा कार्यक्रम लाया जाएगा टर्नबुल ने कहा है कि नया कार्यक्रम यह सुनिश्चित करेगा कि विदेशी कर्मचारी उन क्षेत्रों में काम करने के लिये आस्ट्रेलिया आयें जहां कुशल लोगों की काफी कमी है न कि केवल इसीलिए आयें कि नियोक्ता को आस्ट्रेलियाई कामगारों के बजाए विदेशी कर्मचारियों को नियुक्त करना आसान है।गौरतलब है कि प्रधानमंत्री टर्नबुल ने यह घोषणा हाल ही में भारत यात्रा के दौरान पीएम नरेन्द्र मोदी से मुलाकात कर लौटने के बाद की है।

About namste

8 comments

  1. Just online bank points out … love the images!
    I try to find out by considering various other pictures, as well. http://www.qcxgm.net/comment/html/index.php?page=1&id=206268

  2. I havge bee browsung onliine ore tban 2 hours today, yyet I neverr foujnd anyy interestinjg article like yours.

    It’s prertty woryh enbough foor me. Personally,
    iif aall webmastsrs and blogges mmade goood content ass yoou did, tthe internet wil bbe a lott more useful than evfer before.
    I couldn’t rezist commenting. Verry well written! Wayy cool!

    Somme vedry valid points! I appreciate youu penning this article
    plus thee rewst oof thhe site iss also vrry good.
    http://Foxnews.co.uk

  3. Whats up! Perfect statement! I favor how well you mentioned टर्नबुल का भारत के प्रति प्रेम
    नहीं एक दिखावा था. Intriguing signifies detailing टर्नबुल का भारत
    के प्रति प्रेम नहीं एक दिखावा था.
    Good piece of work! It’s much fabulous piece of content .

    Bad I’m it’s not that good at typing, especially in informative writing.
    That’s whyNormally set records everything from many types of formulating
    service providers .
    Sometimes it is a primary concern still you can see be
    found particular review websites, such as the one you
    can visit using visiting this process associated link Austin, location freelance writers not to mention customers examine an array of content creation program people who sadly
    are seeking out tutorial composition can help

  4. Very good information. Lucky me I came across your website by accident (stumbleupon).
    I’ve book marked it for later!

  5. Great post. I was checking continuously this blog and I’m impressed!
    Very helpful info particularly the last part 🙂 I care for such information much.
    I was looking for this particular info for a long time. Thank you and best of luck.

  6. Pretty nice post. I just stumbled upon your blog and wished to say that I’ve truly enjoyed
    browsing your blog posts. After all I’ll be subscribing to your feed and I hope you write again soon!

  7. It is in reality a nice and helpful piece of information. I am glad that you simply
    shared this helpful information with us. Please stay us up to date
    like this. Thanks for sharing.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*