Home » प्रदेश » उत्तर प्रदेश » गोण्डा » अवधी नाइट से सजी गोण्डा महोत्सव की पहली शाम

अवधी नाइट से सजी गोण्डा महोत्सव की पहली शाम

सांसद कैसरगंज बृजभूषशरण सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर महोत्सव का किया औपचारिक शुभारम्भ

जितेन्द्र वर्मा

गोण्डा। अद्भुत, अविश्वसनीय सौम्य और जनपद के इतिहास को समेटे हुए गंगा-जुमनी तहजीब का प्रतीक बन चुके गोण्डा महोत्सव की पहली शाम संस्कृतिक एवं रंगारंग कार्यक्रमों से सराबोर रही। गोण्डा महोत्सव के संस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारम्भ देर शाम सांसद कैसरगंज बृजभूषण शरण सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि किया। महोत्सव समिति के अध्यक्ष जिलाधिकारी जेबी सिंह, सीडीओ/ महोत्सव समिति की सचिव दिव्या मित्तल तथा महोत्सव के नोडल अधिकारी नगर मजिस्ट्रेट पीडी गुप्ता ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर जिला जज साधना रानी ठाकुर, पुलिस अधीक्षक उमेश कुमार सिंह, एडीएम रत्नाकर मिश्र, एसडीएम सदर अमरेश मौर्य, एसडीएम तरबगंज सौरभ भट्ट, एसडीएम मनकापुर उमेशचन्द्र उपाध्याय, अपर उपजिलाधिकारी नन्हे लाल, सीअे सिटी, सीओ तरबगंज, पूर्व चेयरमैन नगर पालिका गोण्डा कमरूद्दीन, पूर्व एमएलसी रघुराज उपाध्याय, सांसद प्रतिनिधि संजीव सिंह, अम्बरीश दत्त सिंह, केके श्रीवास्तव सहित न्याय विभाग के अन्य अधिकारी, जनप्रतिनिधिगण व भारी जनसमूह उपस्थित रहा। इस अवसर पर मुख्य अतिथि व डीएम द्वारा रूद्रगाथा पुस्तक का भी विमोचन किय गया।

बाॅलीवुड की मशहूर कलाकार पायल मुखर्जी की गणेश वन्दना से शुरू हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम

महोत्सव की पहली शाम में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का शुभारम्भ बाॅलीवुड गायिका पायल मुखर्जी व उनकी टीम द्वारा प्रस्तुत की गई गणेश वन्दना से हुई। इसके बाद उनकी टीम द्वारा एक के बाद एक वालीवुड गानों पर मनमोहक नृत्य प्रस्तुत कर दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया गया। उनकी टीम द्वारा काला चश्मा, ढोल बाजे, म्हारो ढोलना, मशहूर राजस्थानी नृत्य घूमर डांस, मेरी आख्या यो काजल, तू चीज बड़ी है मस्त मस्त जैसे तमाम गानों पर ग्रुप डांस प्रस्तुत कर जबरदस्त शमां बाधी गई।


अवधी नाइट के नाम रही पहली शाम, भोजपुरी गाायक सुरेश कुशवाहा व लोक गायक शिवपूजन शुक्ला ने बांधी शमां

गोण्डा महोत्सव की पहली शाम अवधी नाइट की शानादार प्रस्तुति के नाम रही। गोण्डा की माटी के लाल शिवपूजन द्वारा गाए गए लोकगीतों पर दर्शक झूमने का मजबूर हो गए। महोत्सव देखने आये दर्शकों ने लोकगीतों का खूब लुत्फ लिया। लोकगीतों की महफिल में उस वक्त चार चांद लग गए श्री शुक्ल ने तीनौ मइया चारौ भइया का खेलावयं अंगना व अन्य अवधी गीत गाकर दर्शकों का शानदार मनोरंजन किया बौर खूब तालियां बजवाई। वही लखनउ के चुनाव ब्रान्ड एम्बेसडर मशहूर भोजपुरी सिंगर सुरेश कुशवाहा ने लोकगीतों की शानदार श्रृंखलाओं से पूरे पण्डाल में बैठक दर्शकों को झुमा दिया। उन्होने गणवेश वन्दना व मां की वन्दना से प्रस्तुति शुरू की। भोजपुरी लोकगीत सोनपुर के मेलवा में धनिया हेरइली हो दरोगा बाबू, अंगनइय मां बबुरा लगइबा त कइसै आम हो जाई, इसके अलावा शहर ओर गांव की माटी में अन्तर का दर्शाता हुआ गीत जवन सुख टुटली झोपड़िया, अटरिया मा नाही तथा महुआ चुवेे ला भिनसार हो जैसे गीत गाकर महोत्सव की शाम में चार चांद लगा दिए। महोत्सव के समिति के अध्यक्ष/जिलाधिकारी जेबी सिंह द्वारा कलाकारों को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन जानकी शरण द्विवेदी एवं रघुनाथ पाण्डेय द्वारा किया गया।

जब पण्डाल में शांत हो गए दर्शक, एक घन्टे तक अपनी जगह से नहीं हिले लोग

कथक नृत्य की मशहूर कलाकार और देश विदेश में नाम कमा चुकी जानमानी नृत्यांगना सुरभि सिंह व उनकी टीम द्वारा समसामयिक परिस्थितियों पर आधारित ‘‘आज की द्रोपदी’’ का सजीव मंचन नृत्य के माध्यम से किया गया तो कुछ देर के लिए ऐसा लगा कि समय ठहर गया हो। मुख्य अतिथि सांसद कैसरगंज से लेकर पण्डाल में मौजूद अन्य सभी विशिष्टगण व दर्शक मंचन देख एकदम शंात अैर अवाक रह गए। लगभग एक घन्टे तक एक भी व्यक्ति अपनी जगह से नहीं हिला। मंचन खत्म होते ही सभी ने ख़डे होकर तलियां बजाईं और प्रस्तुति के लिए बस एक ही शब्द सुनाई दे रहे थे वाह भई वाह। वास्तव में सुरभि सिंह व उनकी टीम द्वारा पाण्डव काल में पाण्डवों द्वारा जुए में द्रोपदी को हारने से लेकर उनकी तत्कलीन मजबूरी और आज की नारी की शक्ति का अहसास कराते हुए मंचन किया गया। नारी सिर्फ अबला नहीं वल्कि सबला भी है। वह जरूरत पड़ने पर बचाव के लिए गुहार के अलावा स्वयं की रक्षा के लिए अस्त्र भी उठा सकती है का अहसास करने क प्रयास किया गया। लाइट एवं पाश्र्वगायन तो गजब का रहा। प्रस्तुति इतनी शानदार थी कि लोगों का आखिरी तक बांधे रखा। जिलाधिकारी की धर्मपत्नी व जिलाधिकारी द्वार कलाकार सुरभि सिंह को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया।

हास्य कलाकार रवीन्द्र जानी ने हंसने पर किया मजबूर, खूब बजी तांलियां

मुम्बई से चलकर दर्शकों का मनोरंजन करने पहुुंचे हारू कलाकर राजन श्रीवास्तव रवीन्द्र जानी ने महोत्सव में अधिकारियों, नेताओं और दर्शकों का खूब हंसाया। राजनैतिक परिवेश से लेकर घरेलू एवं सामाजिक समस्याओं पर मसालेदार, पुलिस एवं चटपटे चुटकुलों से उन्होने दर्शकों, श्रोताओं को लूटपोट कर दिया। इस अवसर पर सांसद कैसरगंज सहित डीएम व एसपी ने भी खूब आनन्द लिया। डीएम द्वारा हास्यकलाकार रवीन्द्र जानी को स्मृति चिन्ह एवं अंग वस्त्र भेंटकर सम्मानित किया गया।

बालक खो-खो फाइनल में करनैलगंज ने गोण्डा को हर जीता खिताब

खो-खो पुरूष प्रतिस्पर्धा क फाइनल मैच गोण्डा ओर करनैलगंज के बीच खेला गया। फइनल मैच करनैलगंज की टीम ने जीता। गोण्डा की मैच हारकर दूसरे नम्बर पर रही। जिलाधिकारी ने टमसन मैदान पर बालिका खो-खो प्रतियोगिता एवं कबड्डी के फाइनल मैच का भी शुभारम्भ किया।

महोत्सव के मंच पर आयोजित हुई विशाल कृषि गोष्ठी, शादी अनुदान के लाभार्थियों को मिले स्वीकृति पत्र

महोत्सव के मंच पर जहां एक ओर लोक कलाओं एवं स्थानीय प्रतिभाओं को मंच मलि रहा है वहीं महोत्सव मे ही सरकार की योजनाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए बेहतर इन्तजाम भी किए गए हैं। महोत्सव के दूसरे दिन कृषि विभाग द्वारा विशाल कृषि गोष्ठी का आयोजन किया गया वहीं समाज कल्याण विभाग द्वारा शादी अनुदान हेतु चयनित 35 लाभार्थियों को आर्थिक सहायता के स्वीकृति पत्र प्रदान किए गए।

महोत्सव में 12 मार्च का होने वाले कार्यक्रम

गोण्डा महोत्सव के संयोजक जानकी शरण द्विवेदी ने बतया कि महोत्सव के तीसरे दिन देहर साढे बारह बजे से पंचायतीराज विभाग की गोष्ठी, ढाई बजे से स्थनीय कलााकारों द्वारा प्रस्तुति, सांय साढ़े बजे से जादूबर सौरभ सरकार द्वारा जादू प्रस्तुतकीकरण, 6ः45 बजे अम्ब्रेला डांस तनौरा डांस द्वारा, 7 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम उर्मिला पाण्डेय एण्ड पार्टी द्वारा, 7ः30 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम शुगरा खान एण्ड पार्टी द्वारा तथा रात 8ः15 बजे से मोनाली ठाकुर एण्ड पार्टी द्वारा बालीवुड नाइट के कार्यक्रम प्रस्तुत किए जाएगें।

About namste

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*